23 June 2024

सनसनी : ऋषिकेश ट्रेन में मिले महिला के कटे हुए हाथ और पैर, पुलिस ढूंढ रही सुराग…

दी ग्लोबल टाइम्स न्यूज़/इन्दौर/ ऋषिकेश। ऋषिकेश पहुंची एक ट्रेन में पॉलीथिन में 25 वर्षीय युवती के कटे हुए हाथ और पैर मिलने पर उस वक्त हड़कंप मच गया, जब ट्रेन की सफाई हो रही थी। इंदौर के लक्ष्मीबाई नगर से ऋषिकेश के बीच चलने वाली ट्रेन सोमवार को जब अपने गंतव्य पर पहुंची तो वहां के सफाई कर्मचारियों को ट्रेन की सफाई के दौरान एक बैग मिला। इसमें महिला के कुछ कटे हुए अंग मिले। इसके बाद उत्तराखंड पुलिस ने इंदौर में संपर्क किया। जांच में ये सामने आया है कि यह हिस्से उसी लाश के हैं जो इंदौर में एक ट्रेन से बरामद हुए थे।

एसएचओ राणा ने बताया कि उक्त ट्रेन इंदौर से आगे लक्ष्मीबाई नगर मध्यप्रदेश से शुरु होती है। इसलिए उन्होंने इंदौर के जीआरपी पुलिस एसएचओ संजय शुक्ला से इस संबंध में बात की। संजय शुक्ला ने उन्हें बताया कि बीते नौ जून को इंदौर में एक अन्य ट्रेन में सीट के नीचे से महिला का शव मिला है। जिसमें हाथ व पांव कटे हुए हैं।

हाथ पर गुदे नाम से की जा रही शिनाख्त

पुलिस को प्रारंभिक जांच में महिला के गुजराती होने की जानकारी मिली है। हालांकि महिला की अब तक शिनाख्त नहीं हो पाई है, लेकिन उसकी एक कलाई पर मीरा बेन गोपाल भाई लिखा हुआ है। ऐसे में पुलिस अब इस नाम की गुमशुदा महिलाओं की डिटेल खंगाल रही है। जीआरपी इंदौर के थाना प्रभारी संजय शुक्ला के अनुसार पुलिस इस मामले में कई एंगल पर जांच कर रही है और जल्द ही इस केस को सुलझा लिया जाएगा।

बेहद शातिर बेरहम कातिल है

पुलिस के मुताबिक फिलहाल प्रारंभिक जांच में ये सामने आया है कि जिन दो ट्रेनों में अलग-अलग शवों के टुकड़े पैक करके रखे गए, उससे साफ है कि कातिल बेरहम होने के साथ ही बेहद शातिर भी है। उसने जानबूझकर लाश को टुकड़ों मे काटकर इसलिए ठिकाने लगाया ताकि पुलिस के लिए ये एक अनसुलझी पहेली बन जाए। पुलिस का अनुमान है कि जिन दो ट्रेनों में लाश के ये टुकड़े मिले हैं, वे एक ही समय पर उज्जैन स्टेशन पर आमने-सामने के प्लेटफॉर्म पर खड़ी होती हैं। इसके साथ ही शातिर हत्यारे  को ये भी पता था कि उज्जैन स्टेशन के सीसीटीवी कैमरे बंद हैं। यही वजह है कि पुलिस अब तक इस केस में उलझी हुई है।

यह है मामला

जीआरपी पुलिस देहरादून के प्रभारी निरीक्षक त्रिवेंद्र सिंह राणा ने बताया कि स्टेशन में उज्जैनी एक्सप्रेस रविवार शाम सात बजे पहुंचती है। सोमवार को जब ट्रेन की धुलाई की जा रही थी तो कर्मियों को स्लीपर के दो कोचों के बीच टाॅयलेट के बगल में एक काली पॅालीथीन दिखी जिससे गंध आ रही थी। जिसकी सूचना कर्मियों ने रेलवे पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने जब पॉलीथीन खोलकर देखा तो उसमें कटे हुए हाथ व पैर थे। हाथों के नाखूनों पर नेल पॉलिस व कलाई में चूड़िया थी। जिससे स्पष्ट हो रहा था कि उक्त अंग महिला के हैं।